बसंत - गीत

  • जब ऋतुराज विहँस आता है,तन-मन निखर-निखर जाता है
    पुलकित  होकर  मन  गाता  है ,  प्यारा यह  मौसम भाता है 


    अमराई  बौराई  फिर से , हरियाली  लहराई फिर से,
    कोयल फिर उपवन में बोले, मीठी-मीठी मिश्री घोले,
    हृदय लुटाता प्रणय जताता, भ्रमर कली पर मंडराता है.     
    पुलकित होकर मन गाता है, प्यारा यह मौसम  भाता है.

    बाली गेहूँ की लहराई, झूमी मदमाती पुरवाई,
    पागल है भौंरा फूलों में, झूले मेरा मन झूलों में,

    मस्ती में सरसों का सुन्दर,  पीला आँचल लहराता है.
    पुलकित होकर मन गाता है, प्यारा यह मौसम भाता है. 

     

    पेड़ों में नवपल्लव साजे, ढोल मँजीरा घर-घर बाजे,
    महकी फूलों की फुलवारी, सजी धरा दुल्हन सी प्यारी,

    धीमी-मध्यम तेजी गति से, बादल नभ में मँडराता है.
    पुलकित होकर मन गाता है, प्यारा यह मौसम  भाता है.

More WriteUps from Arun Sharma

  • ग़ज़ल : समन्दर

    Posted March 24, 2013

    सभी को लगे खूब प्यारा समन्दर, सुहाना ये नमकीन खारा समन्दर, नसीबा के चलते गई डूब कश्ती, मगर दोष पाये बेचारा समन्दर,   ...

  • ग़ज़ल : जिद में

    Posted March 24, 2013

    दिलों की कहानी बनाने की जिद में, लुटा दिल मेरा प्यार पाने की जिद में, बिना जिसके जीना मुनासिब नहीं था, उसे खो दिया आजमाने की जि...

  • चंद - पंक्तियाँ

    Posted March 24, 2013

    1.  मेरी कीमत लगाता बजारों में था. वो जो मेरे लिए इक हजारों में था. कब्र की मुझको दो गज जमीं ना मिली, आशियाँ उसका देखो सिता...

  • भारत की सरकार में , शकुनी जैसे लोग

    Posted March 24, 2013

    भारत की सरकार में , शकुनी जैसे लोग,आम आदमी के लिए , नित्य परोसें रोग नित्य परोसें रोग , नहीं मिलता छुटकारा,ढूँढे  कौन  उपाय  ,&n...

  • काँधे पे रखके अपनी ही लाश भागता है

    Posted March 24, 2013

      'बहरे मुजारे मुसमन अख़रब' (221-2122-221-2122) दिन रात मुश्किलों का अब साथ काफिला है 'ये कैदे बामशक्कत जो तूने की अता है ' आराम ना मयस्सर कुछ...

View All Entries

Similar WriteUps

  • Sharing a verse of love

    Posted July 5

      _______________________________ Veiled within the deep gloominess of night; She entered into his hut to throw little light; Holding a jar ...

  • Journey of love

    Posted July 2

    Journey of love   Holding hands and walking For miles together... Promises made To be there for each other forever To be there whatever may com...

  • Scavengers of Fallen Tears

    Posted June 22

      Look at this… Broken angel… Fallen tears…   Black crows… Scavengers… Lying in wait… For...

  • losing..

    Posted June 5

    Losing hopes of winning the game Enervated sprit, effete I am Lost in the imbroglio Lost in the search of name I have lost my hopes, inspirations I ha...

  • Social Networks

    Posted May 27

      Blinded by this veil Of the superficial dust Always checking your mail Not knowing whom to trust   We are taking this road Through ...