बसंत - गीत

  • जब ऋतुराज विहँस आता है,तन-मन निखर-निखर जाता है
    पुलकित  होकर  मन  गाता  है ,  प्यारा यह  मौसम भाता है 


    अमराई  बौराई  फिर से , हरियाली  लहराई फिर से,
    कोयल फिर उपवन में बोले, मीठी-मीठी मिश्री घोले,
    हृदय लुटाता प्रणय जताता, भ्रमर कली पर मंडराता है.     
    पुलकित होकर मन गाता है, प्यारा यह मौसम  भाता है.

    बाली गेहूँ की लहराई, झूमी मदमाती पुरवाई,
    पागल है भौंरा फूलों में, झूले मेरा मन झूलों में,

    मस्ती में सरसों का सुन्दर,  पीला आँचल लहराता है.
    पुलकित होकर मन गाता है, प्यारा यह मौसम भाता है. 

     

    पेड़ों में नवपल्लव साजे, ढोल मँजीरा घर-घर बाजे,
    महकी फूलों की फुलवारी, सजी धरा दुल्हन सी प्यारी,

    धीमी-मध्यम तेजी गति से, बादल नभ में मँडराता है.
    पुलकित होकर मन गाता है, प्यारा यह मौसम  भाता है.

More WriteUps from Arun Sharma

  • ग़ज़ल : समन्दर

    Posted March 24, 2013

    सभी को लगे खूब प्यारा समन्दर, सुहाना ये नमकीन खारा समन्दर, नसीबा के चलते गई डूब कश्ती, मगर दोष पाये बेचारा समन्दर,   ...

  • ग़ज़ल : जिद में

    Posted March 24, 2013

    दिलों की कहानी बनाने की जिद में, लुटा दिल मेरा प्यार पाने की जिद में, बिना जिसके जीना मुनासिब नहीं था, उसे खो दिया आजमाने की जि...

  • चंद - पंक्तियाँ

    Posted March 24, 2013

    1.  मेरी कीमत लगाता बजारों में था. वो जो मेरे लिए इक हजारों में था. कब्र की मुझको दो गज जमीं ना मिली, आशियाँ उसका देखो सिता...

  • भारत की सरकार में , शकुनी जैसे लोग

    Posted March 24, 2013

    भारत की सरकार में , शकुनी जैसे लोग,आम आदमी के लिए , नित्य परोसें रोग नित्य परोसें रोग , नहीं मिलता छुटकारा,ढूँढे  कौन  उपाय  ,&n...

  • काँधे पे रखके अपनी ही लाश भागता है

    Posted March 24, 2013

      'बहरे मुजारे मुसमन अख़रब' (221-2122-221-2122) दिन रात मुश्किलों का अब साथ काफिला है 'ये कैदे बामशक्कत जो तूने की अता है ' आराम ना मयस्सर कुछ...

View All Entries

Similar WriteUps

  • Paranoia-The poetry

    Posted April 9

    Paranoia...   Who’s there? I saw you so don’t hide. Don’t fool me with that face, I know. The games you play; Don’t...

  • Hold My Hand and Take Me There

    Posted March 20

    O dear beloved, please come Come and take me Hold my hand and lead me To the sea side Where there are only mountains Trees, greenery and sea Ben...

  • शृंगार (Beauty)

    Posted March 19

          शृंगार (Beauty)"मेरे सामने श्रुंगार करो" था उसका अनुरोध उस बात पे रंग गयी, फिर रहा न कोई बोध। मेरी ख़ुशी कि न थी कोई सीमा ...

  • Undeciphered moments

    Posted March 14

    Sometimes I like someone,moments go undeciphered as I spend my time madly in love.Sometimes I hate someone, moments go undeciphered as I am totally ir...

  • Blossoms of Love....

    Posted March 14

    Plant seeds of trust in our garden of love, De-weed  the patch time after time. Obliterate weeds of doubts to ever grow  , Never allow gras...