Contest


News Feed
Applications

Friends (0)
No friends yet
Mutual Friends (0)
No mutual friends yet
Groups (0)
No groups yet

Recent updates

Pinned Items
Recent Activities
  • अजीब सी बात है पर पता नहीं सुबह से दिमाग में एक शब्द घूम रहा है टट्टी तेरी टट्टी मेरी टट्टी से खुशबूदार कैसे या तेरी टट्टी मेरी टट्टी से ज्यादा असरदार कैसे पाठकों को भी लग रहा होगा टट्टी भी कोई बात करने का विषय हो सकता है सुबह उठता है आदमी खाता है शाम होती है फिर से खाता हैखाता है कम या बहुत लेकिन रोज सबेरे कुछ ना कुछ जरूर हगनेचला जाता है जो हगता है उसे ही टट्टी कहा जाता है टट्टी बात करने का विषय नहीं है हर कोई हगने और टट्टी जैसे शब्दों के प्रयोग से बचना चाहता है टट्टी पर या हगने जैसे विषय पर गूगल करने वाला भी कोई एक कविता लिखा हुआ नहीं पाता है कविता और टट्टी हद हो गई कविता शुद्ध होती है शुद्ध मानी जाती है टट्टी को अशुद्ध में गिना जाता है अपने आस पास हो रहा कुछ......
    1. Continue Reading
    Post is under moderation
    Stream item published successfully. Item will now be visible on your stream.
  • सुबह से कुछ याद जैसा आ रहा है नवम्बर का महीना चौदहवाँ दिन धीरे धीरे रोज की तरह खिसकता जा रहा है याद करते करते भी जैसे कुछ भूला जा रहा है गूगल का डूडल एक सौ इकतीसवीं साल गिरह कागज में छेद करने वाले उपकरण की मना रहा है सब कुछ छूटता चला गया हो जैसे बचपन अब बच्चों में भी जब नजर नहीं आ रहा है अखबार समाचार टी वी पत्रकार कहीं भी कोई जल्सा मनाने की खबर का पुतला जलाता हुआ नजर नहीं आ रहा है ‘उलूक’ की समझ में बड़ी देर से घुस रही है हवा धुऐं कोहरे धूल से तैयार की गयी अँधेरा दिन में करने का पूरा तंत्र मंत्र जाप कर साँस लेने का सरकारी आदेश ध्वनिमत से पास करवाने का प्रपंच करवा रहा है इतना लम्बा खींच कर समझाने की जरूरत वैसे नहीं होनी चाहिये सीधे साधे शब्दों में जिन्दा ताऊ को मरे चाचा......
    1. Continue Reading
    Post is under moderation
    Stream item published successfully. Item will now be visible on your stream.
  • किसी दिन तो सब सच्चा सोचना छोड़ दिया कर कभी किसी एक दिन कुछ अच्छा भी सोच लिया कर रोज की बात कुछ अलग बात होती है मान लेते हैं छुट्टी के दिन ही सही एक दिन का तो पुण्य कर लिया कर बिना पढ़े बस देखे देखे रोज लिख देना ठीक नहीं कभी किसी दिन थोड़ा सा लिखने के लिये कुछ पढ़ भीलिया कर सभी लिख रहे हैं सफेद पर काले से काला किसी दिन कुछ अलग करने के लिये अलग सा कुछ कर लिया कर लिखा पढ़ने में आ जाये बहुत है समझ में नहीं आने का जुगाड़ भी साथ में कर लिया कर काले को काले के लिये छोड़ दिया कर किसी दिन सफेद को सफेद पर ही लिख लिया कर ‘उलूक’ बकवास करने के नियम जब तक बना कर नहीं थोप देता है सरदार सब कुछ थोपने वाला तब तक ही सही बिना सर पैर की ही......
    1. Continue Reading
    Post is under moderation
    Stream item published successfully. Item will now be visible on your stream.
  • सौ में से निनानवे शरीफ होते हैंउनको होना ही होता है होता वही है जो वो चाहते हैं बचा हुआ बस एक ही होता है जो नंगा होता है उसे नंगा होना ही होता है उसके बारे में निनानवे ने सबको बताया होता है समझाया होता है बस वो ही होता है जो उनका जैसा नहीं होता है निनानवे सब कुछ सम्भाल रहे होते हैं सब कुछ सारा कुछ उन के हिसाब से हो रहा होता है शराफत के साथ नंगा देख रहा होता है सब कुछ कोशिश कर रहा होता है समझने की मन्द बुद्धि होना पाप नहीं होता है नहीं समझ पाता है होते हुऐ सब कुछ को जिसे सौ में से निनानवे कर रहे होते हैं कुछ कर पाना नंगे के बस में नहीं हो रहा होता है नंगा हम्माम में ही होता है नहा भी रहा होता है निनानवे को कोई फर्क नहीं पड़ रहा होता है......
    1. Continue Reading
    Post is under moderation
    Stream item published successfully. Item will now be visible on your stream.
  • कई दिनों तक एक रोज लिखने वाला अपनी कलम और किताब को रोज देखता है रोज छूता है बस लिखता कुछ भी नहीं है लिखने की सोचने तक नींद के आगोश में चला जाता है सो जाता है कब्ज होना शुरु होता है होता चला जाता हैबहुत कुछ होता है रोज की जिन्दगी में बाजार नहीं होता है आसपास कहीं भी दूर दूर तलक बेचने की सोच कर साथी एक कुछ भी बेच देने वाला मन बना कर चला आता है दुकान तैयार कर देता हैं मिनटों में खरीददार बुझाये समझाये हुऐ कुछ दो चार साथ में पहले से ही लेकर के आता है बिकने को तैयार नहीं होने से कुछ नहीं होता है कब घेरा गया कब बोली लगी कब बिक गया जब तक समझता है बेच दिया जाता है सामान बना दिया जाने के बाद दाम अपने आप तय हो जाता है शातिराना अन्दाज के नायाब तरीके सीखना सिखानाजिस......
    1. Continue Reading
    Post is under moderation
    Stream item published successfully. Item will now be visible on your stream.
There are no activities here yet
Unable to load tooltip content.

For information regarding Sponsored posts,
links or any other queries Contact Us

Sponsored Links

Get professional essay help with  Privatewriting.com  - your reliable academic partner.

Many highly-experienced and reliable writers from domypapers.com are ready to help you by request.

If you don't know where to get quality writing assistance, you should go to CustomWritings.com for hiring academic writers.

Are you struggling with essay writing now? This website SmartWritingService.com will certainly help you with that.